Types of diodes in Hindi (part 2)

Types of diodes in Hindi (part 2)

Types of diodes (डायोड के प्रकार)

Types of diodes

दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम डायोड के कितने प्रकार होते हैं, उसके बारे में जानेंगे।

परंतु उससे पहले जिन लोगों ने मेरा पिछला पोस्ट डायोड नहीं पड़ा है, वह एक बार मेरा वह वाला पोस्ट जरूर पढ़ ले।

दोस्तों डायोड को किसी भी मदरबोर्ड में D से दर्शाया जाता है।

डायोड किसी भी विद्युत धारा को एक तरफा बना देता है,

अर्थात यह किसी भी विद्युत धारा को आगे तो जाने देता है,

पर यह उस विद्युत धारा को पुनः आने नहीं देता है।

संक्षिप्त में अगर मैं कहूं तो यह एक वन वे रोड का कार्य करती है।

तो दोस्तों अब हम हमारे आज के विषय पर चलते हैं।

What is diode in hindi (part 1)

What is the Resistor (Resistor क्या है part 1)

Types of Resistor ( Resistor के प्रकार part 2)

Types of Fixed Resistor (फिक्स्ड Resistor के प्रकार part 3)

दोस्तों वैसे तो डायोड काफी तरह के होते हैं, पर यह डायोड मुख्य रूप से नौ प्रकार के होते हैं।

(1) जीनर डायोड

(2) फोटो डायोड

(3) शोक्ली डायोड

(4) टुयूनल डायोड

(5) विरेक्टर डायोड

(6) लेजर डायोड

(7) लाइट एमिटिंग डायोड

(8) कोंस्टेंट करंट डायोड

(9) स्कॉटकी की डायोड

दोस्तों एक बात जान लीजिए कि डायोड के जो नंबर होते हैं, या डायोड के जो वैल्यू होती है, वह डायोड की कैटेगरी नहीं होती है। बस वह डायोड के वर्जन होते हैं , और यह नौ प्रकार के जो डायोड होते हैं। यह डायोड की कैटेगरी अर्थात प्रकार होते हैं। दोस्तों अब हम इन सभी डायोड के बारे में एक-एक करके विस्तार से जानेंगे।

Types of diodes(1) जीनर डायोड

Types of diodes
zener diode

दोस्तों यह डायोड लगभग सामान्य डायोड की तरह दिखाई देता है, पर इसका कार्य थोड़ा अलग होता है। दोस्तों यह डायोड दो तरफा भी कार्य कर सकता है। इसलिए इस डायोड को बहुत ही खास माना जाता है। दोस्तों जीनर डायोड की काफी सारी खासियत होती है। दोस्तों इस का आविष्कार 1934 में क्लीयरेंस जिगर ने किया था। और इसका आविष्कार मुख्य रूप से अचानक से आने वाली वोल्टेज पल्सेस से बचने के लिए किया गया था। जीनर डायोड करंट को आम जीनर डायोड की तरह आगे तो जाने देता है, परंतु जब वोल्टेज ब्रेकडाउन वोल्टेज से ज्यादा हो जाता है, तो यह करंट को रिवर्स में भी आने देता है, अर्थात पीछे की तरफ वापस आने देता है।

Types of diodes(2) फोटो डायोड

photo diode
photo diode

दोस्तों अगर मैं इस डायोड के बारे में साधारण भाषा में बताऊ, तो यह डायोड कनवर्टर का कार्य करता है। दोस्तों इस डायोड का उपयोग खासतौर पर सोलर पावर प्लांट में किया जाता है। यह सूर्य की किरणों को इलेक्ट्रिक करंट में बदलने का कार्य करता है। यह सूर्य की किरणों को अवशोषित करके उसको करंट में बदल देता है।


Types of diodes(3) शोक्ली डायोड

shockley diode
shockley diode

दोस्तों यह डायोड एक तरह का ट्रांजिस्टर होता है। इस डायोड का आविष्कार इलेक्ट्रॉनिक की दुनिया में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि थी। यह दुनिया का प्रथम पीएनपी डायोड है। तथा इस डायोड का आविष्कार विलियम शॉक्ली ने किया था, और इसका नाम भी उन्हीं के नाम पर रखा गया।

Types of diodes(4) टुयूनल डायोड

tunnel diode
tunnel diode

दोस्तों यह सबसे तेज कार्य करने वाला डायोड है। इस डायोड के कार्य करने की क्षमता अत्यधिक तेज है। जहां पर किसी भी कार्य को नैनो सेकेंड में करवाना है, वहां पर इस डायोड का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए ही इस डायोड का इस्तेमाल आज के वक्त में सबसे ज्यादा किया जाता है। इस डायोड की ही वजह से कई नए उपकरणों का आविष्कार करना संभव हो पाया है, और इसका उपयोग बहुत ही तेजी से स्विचिंग करने के लिए किया जाता है।

Types of diodes(5) विरेक्टर डायोड

varactor diode
varactor diode

दोस्तों यह डायोड एक कैपेसिटर की तरह कार्य करता है, यह डायोड किसी भी सर्किट में स्थिर वोल्टेज की क्षमता को बढ़ा सकता है, और कम भी कर सकता है। और यही कारण है, कि इसका उपयोग वेरिएबल कैपेसिटर की तरह किया जाता है।

(6) लेजर डायोड

laser diode
laser diode

दोस्तों इस डायोड का इस्तेमाल प्रिंटर डीवीडी प्लेयर तथा स्केनर में किया जाता है, यह करंट को लेजर में बदल देता है।

What is diode in hindi (part 1)

(7) लाइट एमिटिंग डायोड

LED (लाइट एमिटिंग डायोड)
LED (लाइट एमिटिंग डायोड)

दोस्तों यह डायोड लेजर डायोड की तरह ही कार्य करता है, पर इसमें यह लेजर नहीं बनाता है।

यह करंट को लाइट में बदल देता है। दोस्तों यह लाइट एमिटिंग डायोड फॉरवर्ड बेस पर कार्य करता है।

(8) कोंस्टेंट करंट डायोड

constant diode
constant diode

दोस्तों यह डायोड बाकी डायोड से काफी अलग होता है। वैसे तो इस डायोड का उपयोग हम कई प्रकार से लेते हैं, पर इस डायोड का उपयोग हम उस जगह लेते हैं, जहां पर हम को किसी भी करंट को नियमित रूप से बहते रहने देना होता है। अगर मैं सामान्य रूप से कहूं, तो इस डायोड का मुख्य कार्य करंट के प्रवाह को नियमित रूप से बहते रहने देना है। दोस्तों यह कई प्रकार के नाम से जानी जाती है, जैसे करंट रेगुलेटिंग डायोड, करंट लिमिटेड डायोड, कनेक्टर, ट्रांजिस्टर, कांस्टेंट करंट डायोड।

(9) स्कॉटकी की डायोड

Schottky Diodes
Schottky Diodes

दोस्तों इस डायोड का आविष्कार जर्मनी के एक साइंटिस्ट ने किया था,

तथा इस डायोड का नाम भी उसी साइंटिस्ट के नाम पर ही रखा गया था।

उस वैज्ञानिक का नाम कम्पेसेकिस्ट वॉल्टर एच स्कॉट्की था। दोस्तों यह डायोड सेमीकंडक्टर मैटेरियल और धातु के जंक्शन द्वारा बनी होती है। दोस्तों इस डायोड के इसी गुण के कारण यह बहुत कम करंट ड्रॉप करती है, और यह बहुत तेजी से स्वीचिंग करता है, और यह डायोड बहुत ज्यादा मात्रा में करंट बहाने की क्षमता रखता है। इसी वजह से ही यह बहुत कम करंट ब्लॉक करता है, और बहुत ज्यादा करंट आगे जाने देता है। इसी कारण ही इसके कार्य करने की क्षमता तथा गति काफी हद तक ज्यादा हो जाती है।

links :-

What is diode in hindi (part 1)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
%d bloggers like this: